औंलाहरू चुमेर

Author : वैरागी काइँला
Published on : February 25, 2010


  
वैरागी काइँला

औँलाहरू चुमेर औँलाभरि सलाम

मेरो हजुरलाई आँखाभरि सलाम,

 

के बिराएँ ? नजरले चुमेँ

ती फूल जो ओँठमा फुले

के बिराएँ ? हत्केलामा थापेँ

ती केश जो लाजमा झुके

मानेँ, कि मेरो हजुरलाई

बाटोभरि साह्रै गरी लाज लाग्यो रे,

 

औँलाहरू चुमेर औंलाभरि सलाम

मेरो हजुरलाई आँखाभरि सलाम,

 

के बिराएँ ? सपनामा आएँ

सपना र विपना पगालेँ

के बिराएँ ? फूलमा गालेँ

सीमाना र साँध नै पगालेँ

मानेँ कि मेरो हजुरलाई सपनामा

रातभरि नीद लागेन रे ।